Kalank Title Song Lyrics – Kalank

Kalank Title Song Lyrics – The title song of the movie kalank is sung by Arijit Singh.The featuring actor in the movie are varun dhawan,sanjay madhuri dixit,Alia Bhatt,  Aditya Roy Kapur and Sonakshi Sinha.The lyrics of the song is penned by Amitabh Bhattacharya and the composer of the song is Pritam.

Song – Kalank Title Song
Lyrics – Amitabh Bhattacharya
Compose – Pritam
Singer – Arijit Singh

Kalank Title Song Lyrics

Hawaaon mein bahenge
Ghataon mein rahenge
Tu barkha meri
Main tera baadal piya

Jo tere na huve toh
Kisi ke na rahenge
Deewani tu meri
Main tera paagal piya

Hazaaron mein kisi ko taqdeer aisi
Mili hai ik Ranjha aur Heer jaisi

Na jaane ye zamaana
Kyun chaahe re mitaana
Kalank nahi ishq hai kaajal piya
Kalank nahi ishq hai kaajal piya
Piya, piya, piya re…
Piya re, piya re…
Piya re, piya re, piya re, piya re…

Duniya ki nazron mein ye rog hai
Ho jinko woh jaane ye jog hai
Ik tarfa shayad ho dil ka bharam
Do tarfa hai toh ye sanjog hai

Layi re humein zindgani ki kahaani
Kaise mod pe
Huve re khud se paraaye
Hum kisi se naina jod ke

Hazaaron mein kisi ko taqdeer aisi
Mili hai ik Ranjha aur Heer jaisi

Na jaane ye zamaana
Kyun chaahe re mitaana
Kalank nahi ishq hai kaajal piya
Kalank nahi ishq hai kaajal piya

Main tera, main tera, main tera, main tera
Main tera, main tera, main tera, main tera
Main gehra tamas tu sunhera savera
Main tera o, main tera
Musaafir main bhatka tu mera basera
Main tera o.. main tera

Tu jugnu chamakta
Main jungle ghanera
Main tera aa…
O piya main tera, main tera, main tera
Ho… main tera
Ho… main tera, main tera, main tera
O…

Official video of Kalank title song :

In Hindi

हवाओं में बहेंगे
घटाओं में रहेंगे
तू बरखा मेरी
मैं तेरा बादल पिया

जो तेरे ना हुए तो
किसी के ना रहेंगे
दीवानी तू मेरी
मैं तेरा पागल पिया

हजारों में किसी को
तक़दीर ऐसी, मिली है
एक रांझा और हीर जैसी

ना जाने ये ज़माना
क्यूँ चाहे रे मिटाना
कलंक नहीं इश्क़ है काजल पिया
कलंक नहीं इश्क़ है काजल पिया

पिया, पिया
पिया रे, पिया रे, पिया रे
पिया रे, पिया रे, पिया रे

दुनिया की नज़रों में ये रोग है
हो जिनको वो जाने ये जोग है
इक तरफा शायद हो, दिल का भरम
दो तरफा है तो ये संजोग है
लाई रे हमें ज़िन्दगानी की कहानी कैसे मोड़ पे
हुए रे खुदसे पराए
हम किसी से ना ना जोड़ के

हजारों में किसी को
तक़दीर ऐसी, मिली है
एक रांझा और हीर जैसी
ना जाने ये जमाना
क्यूँ चाहे रे मिटाना
कलंक नहीं इश्क़ है काजल पिया
कलंक नहीं इश्क़ है काजल पिया

मैं तेरा, मैं तेरा
मैं तेरा, मैं तेरा, मैं तेरा
मैं तेरा, मैं तेरा, मैं तेरा
मैं गहरा तमस, तू सुनहरा सवेरा
मैं तेरा, ओ मैं तेरा
मुसाफिर मैं भटका, तू मेरा बसेरा
मैं तेरा, ओ मैं तेरा

तू जुगनू चमकता
मैं जंगल घनेरा
मैं तेरा

ओ पिया मैं तेरा, मैं तेरा, मैं तेरा
मैं तेरा, मैं तेरा
ओ मैं तेरा, मैं तेरा, मैं तेरा, मैं तेरा, मैं तेरा
मैं तेरा… ओ ओ…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *